मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

पूछेंगे लोग उनकी बेवफ़ाइयो का सबब
मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

खुलते नही है उनकी रुसवाइयों को लब
मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

ना इश्क़ है ना दर्द लफ़्ज भी है बेअदब
मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

और भी है शहर मे दिल के टूटे हुए जब
मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

हर्फ़ है सूखे हुए और क़लम टूटी है अब
मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

आदिन

2 thoughts on “मैं ग़ज़ल कैसे कहूँ

  1. pyar me shart nahi hoti, ki jise ham chahte hai vo bhi hame pyar kare………
    jiske liye ham jee rahe hai vo bhi hamara intjar kare………………..

    • Thank you for your kind words. but agar main sharte rakhta ya manta hi to shayar kyun banta…………..Still thank you God Bless You I Wish You will find your destiny………

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s