हुज़ूर आहिस्ता-आहिस्ता जनाब आहिस्ता-आहिस्ता

सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता-आहिस्ता
निकलता आ रहा है आफताब आहिस्ता-आहिस्ता

जवान होने लगे जब वो तो हम से कर लिया परदा
हया यक लख्त आईइ और शबाब आहिस्ता-आहिस्ता

शब-ए-फुरक़त का जागा हूँ फरिश्तो अब तो सोने दो
कॅभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता-आहिस्ता

सवाल-ए-वस्ल पर उन को उदू का ख़ौफ़ है इतना
दबे होंठों से देते हैं जवाब आहिस्ता-आहिस्ता

वो बेदर्दी से सर काटें और मैं कहूँ उनसे
हुज़ूर आहिस्ता-आहिस्ता जनाब आहिस्ता-आहिस्ता

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s