जो रुख़ मोड़ दे हवा का तो फिर नज़र क्या है

वो मेरा हमदम नही तो फिर दिल-ए-बसर क्या है
जो रुख़ मोड़ दे हवा का तो फिर नज़र क्या है

दिल-ए-बेताब की दवा है उसकी एक मुस्कुराहट
ना पूछ उसकी गलियो मे जाने का सबब क्या है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s